निक्षय मित्रों की पोषण पोटली से मिलेगा टीबी मरीजों को लाभ

3 Min Read
  • डॉ सुधा चंद्रा एवं लिपिक विनोद कुमार वर्मा निक्षय मित्र बनकर निभा रहे हैं जिम्मेदारी
  • निक्षय मित्र बन टीबी मरीजों के सहयोग को आगे आ रहे हैं  स्वास्थ्य कर्मी- डॉ रमेश चंद्रा
  • छः महीने तक उपलब्ध कराएं पौष्टिक आहार 
बेतिया। टीबी मरीजों के पोषण सम्बंधित जरूरतों को पूरा करने में जिले के स्वास्थ्य कर्मी दिलचस्पी दिखा रहे हैं। जिला यक्ष्मा  पदाधिकारी डॉ रमेश  चंद्रा ने बताया कि निक्षय मित्र बनाने के लिए स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों, चिकित्सकों, समाजसेवी संगठनों से बात की गईं है। जिसपर कई लोगों ने सहमति प्रदान की है। उन्होंने बताया कि  टीबी मरीजों के सहयोग हेतु निक्षय मित्रों द्वारा उपलब्ध कराई गईं पोषण पोटली से टीबी मरीजों को लाभ मिलेगा। पोषणयुक्त आहार के सेवन से उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ेगी।  उनके शरीर का विकास होगा। वहीं दवाओं के नियमित सेवन और पोषणयुक्त भोजन के उपयोग से टीबी  की बीमारी जल्द ठीक होगी।
डॉ सुधा चंद्रा व लिपिक विनोद कुमार बने निक्षय मित्र:
संचारी रोग पदाधिकारी डॉ रमेश चंद्रा ने बताया कि आज डॉ सुधा चंद्रा एवं एसीएमओ कार्यालय के लिपिक विनोद कुमार वर्मा टीबी मरीजों के सहयोग को आगे आए हैं। उन्होंने 2 टीबी मरीजों को गोद लेते हुए छः महीने तक पोषण आहार उपलब्ध कराने का निर्णय लिया है। वहीं मौके पर निक्षयमित्र बनीं डॉ सुधा चंद्रा ने बताया कि जीवन में कुछ नेक कार्य भी होना चाहिए। टीबी मरीजों की आर्थिक सहायता तो सरकार करती ही है, अगर हम सभी पोषण से संबंधित सहयोग करेंगे तो जिले के टीबी रोगियों की मुश्किलें कम हो जाएगी। वह जल्द स्वस्थ हो जाएंगे। वहीं लिपिक विनोद कुमार वर्मा ने बताया कि अख़बारों  के माध्यम से यक्ष्मा पदाधिकारी द्वारा निक्षय मित्र बनने की अपील की जानकारी मिली तब उन्होंने निश्चय किया कि खुद भी बनूंगा और लोगों को भी निक्षय मित्र बनने के लिए जागरूक करूंगा।
छः महीने तक उपलब्ध कराएं पौष्टिक आहार:
जिला यक्ष्मा पदाधिकारी डॉ रमेश चंद्रा ने बताया कि निक्षय पोषण योजना केंद्र सरकार की जन कल्याणकारी योजनाओं में से एक है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने टीबी से ग्रसित लोगों के लिए इस योजना की शुरुआत की है। प्रधानमंत्री ने विभिन्न सामाजिक संगठनों और लोगों से अनुरोध किया है कि टीबी  के मरीजों को पौष्टिक आहार देने हेतु आगे आएँ औऱ उन्हें गोद लेकर 6 माह तक उनके लिए पौष्टिक आहार में भूना चना, सत्तू, सोयाबिन, अंडे, गुड़, मूंगफली, बिस्किट आदि खाद्य पदार्थो की पैकेट सूची के अनुसार वितरण करें।
मौके पर डॉ सुधा चंद्रा, लिपिक विनोद कुमार वर्मा, जिला यक्ष्मा केंद्र में कार्यरत सूर्य नारायण साह, प्रभुनाथ राम एसटीएस, राकेश कुमार वर्मा एसटीएलएस एवं जिला यक्ष्मा केन्द्र से अन्य लोग मौजूद थे ।
13
Share This Article
Leave a review

Leave a review

Your email address will not be published. Required fields are marked *