विश्व हिंदी परिषद के शैक्षणिक प्रकोष्ठ , बिहार की महामंत्री मनोनीत हुईं डॉ पंकजवासिनी

Live News 24x7
2 Min Read
 अशोक वर्मा।
पटना : विश्व हिंदी परिषद की राष्ट्रीय समन्वयक डॉ. शकुंतला सरुपरिया ने  डॉ पंकजवासिनी को शैक्षणिक प्रकोष्ठ, बिहार के महामंत्री पद पर मनोनीत किया है। उन्होंने आशा व्यक्त की है कि डॉ पंकजवासिनी परिषद के उद्देश्यों के प्रति समर्पित होंगी और देश-विदेश में हिंदी भाषा एवं साहित्य के प्रचार-प्रसार को गति देंगी।
डॉ पंकजवासिनी को उनके मनोनयन के पश्चात् डॉ. विपिन कुमार; महान स्तंभकार एवं परिषद के राष्ट्रीय महासचिव, डीपी मिश्रा उपाध्यक्ष, डॉ नन्दकिशोर साह, राष्ट्रीय संपर्क समन्वयक आदि ने बधाई दी। ज्ञात हो कि विश्व हिंदी परिषद का उद्देश्य भारतीय भाषाओं के माध्यम से हिंदी भाषा को राष्ट्रभाषा के रूप में स्थापित करना है। विश्व हिंदी परिषद वस्तुत: हिंदी भाषा के प्रचार- प्रसार की सेवा में समर्पित वैश्विक संस्था है। सर्व कल्याण की भावना से परिषद की गतिविधियाॅं कई देशों में संचालित है। विश्व हिंदी परिषद द्वारा डॉ पंकजवासिनी को शैक्षिक प्रकोष्ठ, बिहार का महामंत्री मनोनीत किए जाने पर हिंदी प्रेमियों में हर्ष की लहर व्याप्त है।
डॉ. पंकजवासिनी रामसेवक सिंह महिला कॉलेज,सीतामढ़ी के हिंदी विभाग में असिस्टेंट प्रोफेसर हैं। बिहार की राजधानी पटना की निवासी हैं। विगत 24 वर्षों से अध्यापन कार्य में लगी हुई हैं। लोकप्रिय एवं स्नेहवत्सल अध्यापिका के रूप में समाज में अपनी पहचान बना चुकी हैं। अब तक विभिन्न प्रदेशों के सैंकड़ों राष्ट्रीय स्तर के कवि – सम्मेलनों में उन्होंने काव्य पाठ किया। राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर की कई संस्थाओं द्वारा सम्मानित व पुरस्कृत की गई हैं। उनकी रचनाएँ देश के विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हैं। अब तक उन्होंने 1000 से अधिक कविताओं की रचना की है। डॉ पंकजवासिनी ने हिंदी भाषा एवं साहित्य के प्रचार – प्रसार को अपने जीवन का लक्ष्य बना लिया है। हिंदी को विश्व पटल पर लाने के लिए वे हर संभव प्रयास करने के लिए कटिबद्ध हैं।
51
Share This Article
Leave a review

Leave a review

Your email address will not be published. Required fields are marked *