जन सुराज को भाजपा की बी टीम बताना प्रदेश राजद अध्यक्ष की विकृत मानसिकता और मुस्लिम और यादवों के घटते समर्थन से बौखलाहट की पहचान है : संजय ठाकुर

Live News 24x7
3 Min Read

पटना। जन सुराज के प्रदेश मुख्य प्रवक्ता सह मीडिया प्रभारी संजय कुमार ठाकुर ने राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगतानंद सिंह के उस बयान की कड़ी भर्त्सना की है जिसमें उन्होंने जन सुराज को भाजपा की बी टीम बताया है। यह उनकी बौखलाहट है और विकृत मानसिकता का द्योतक भी।

आज़ यहां जारी एक बयान में जन सुराज के प्रदेश मुख्य प्रवक्ता श्री ठाकुर ने कहा है कि राजद से मुस्लिम भाइयों और यादव भाइयों की लगातार उपेक्षा से मोहभंग होता जा रहा है जिससे प्रदेश अध्यक्ष श्री सिंह बौखलाए हुए हैं और अनर्गल प्रलाप कर रहे हैं।

श्री ठाकुर ने कहा है कि जन सुराज के संस्थापक और पदयात्रा अभियान के सूत्रधार प्रशांत किशोर जी की बढ़ती ताकत, उनका चुनावी रणनीतिक दक्षता और उन्हें बिहार के सभी वर्गों का मिल रहा जन समर्थन से राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव और उनके उत्तराधिकारी तेजस्वी यादव के होश उड़ने लगे हैं।

बिहार की जनता उनके पन्द्रह वर्षों के आतंक राज़ से परिचित हैं और काठ की हांडी दुबारा नहीं चढ़ने वाली है।‌ मुसलमान समाज अब यह समझ गये है कि उन्हें परिवार वादी राजद में न तो उचित सम्मान मिला,न कभी सरकार में भागीदारी मिली और ना ही उनके समाज के लोगों को शिक्षित बनाया गया। राजद सुप्रीमो केवल अपने परिवार के लोगों को मजबूत किया और मुसलमान भाइयों को उसके अनुपात में टिकट ही नहीं दिया।

यही कारण है कि आज़ बिहार विधानसभा में मुस्लिम विधायकों की संख्या पहले की तुलना में काफी कम हो गयी है।‌
जन सुराज के संस्थापक प्रशांत किशोर जी के साथ राजद के परिवारवादी रवैए और अपनी लगातार उपेक्षा से परेशान बड़ी संख्या में यादव और मुस्लिम समुदाय के लोगों के जु़ड़ने से राजद की जमीन खिसक गई है और इसी वजह से राजद प्रदेश अध्यक्ष जगतानंद सिंह अनर्गल प्रलाप कर रहे हैं।‌

ज्ञात हो कि राजद प्रदेश अध्यक्ष एक पत्र जारी कर प्रशांत किशोर और जन सुराज को भाजपा की बी टीम बताया है ताकि राजद के कार्यकर्ता समाज में भ्रम और अफवाह फैला सके।‌ श्री ठाकुर ने कहा है कि जन सुराज महात्मा गांधी के विचारों से प्रेरित है तथा बाबा साहेब डॉ भीमराव अम्बेडकर के विचारों और उनके द्वारा बनाए गए संविधान का संपोषक है।

जन सुराज जन नायक कर्पूरी ठाकुर, डाक्टर राम मनोहर लोहिया, महात्मा ज्योतिराव फुले और लोकनायक जयप्रकाश नारायण के समाजवाद का पुरोधा है।‌ जन सुराज पर ऐसा घटिया आरोप लगाना राजद की क्षुद्र मानसिकता का परिचायक है।

103
Share This Article
Leave a review

Leave a review

Your email address will not be published. Required fields are marked *