सीताकुंड बाईपास से देवघाट तक फल्गु में बन रहे पाथवे/ अप्प्रोच रोड व अन्य विकास कार्यों का ज़िला पदाधिकारी ने किया निरीक्षण

Live News 24x7
4 Min Read
गया। फल्गु नदी के पश्चिमी तट में बाईपास से देवघाट तक फल्गु में बन रहे पाथवे अप्रोच रोड एव अन्य कार्यों का ज़िला पदाधिकारी गया डॉ० त्यागराजन एसएम ने निरीक्षण किया। ज़िला पदाधिकारी द्वारा बताया गया कि निर्धारित समय सीमा तक में फल्गु नदी के पश्चिमी तट पर बन रहे अप्रोच सड़क सहित सभी कार्यों को हर हालत में पूरा करा लेने का निर्देश कार्यपालक अभियंता  को दिया गया। विदित हो कि पितृपक्ष मेले में देश-विदेश से आने वाले तीर्थ यात्रियों को समुचित यातायात सुविधा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से जल संसाधन सहित तीन अन्य सरकारी विभागों के सहयोग से निर्माण कार्य कराया जाना है । फल्गु नदी के पश्चिमी किनारे पर युद्ध स्तर पर पाथवे बनाने का काम जल संसाधन विभाग द्वारा किया जा रहा है। 450 मीटर लंबी व 12 मीटर चौड़ी सड़क के साथ साथ एकीकृत जल निकासी के लिए नाले के साथ पाथवे का निर्माण जल संसाधन विभाग की निगरानी में कराया जा रहा है।  इसके अलावा पाथवे के किनारे ग्राउंड लेवल से ढाई मीटर ऊंची दीवार, सौ मीटर लंबी व आठ मीटर चौड़ी दो घाट भी बनाया जा रहा है।  इसके साथ ही  आसन्न दीवारों पर भगवान श्री विष्णु की लीलाओं से जुड़े आकर्षक व मनमोहक चित्रकारी कलाकारों द्वारा ब्रश व रंग के सहारे उकेरी जायेगी।पर्याप्त मात्रा में लाइटिंग की भी व्यवस्था होगी।  घुघड़ीटांड़-बाइपास से मुक्तिधाम होते हुए विष्णुपद तक पहुंचने वाला अप्रोच पथ इस पितृपक्ष मेला तक पूर्ण करवाने को कहा है।  नए पथ के निर्माण से गयाजी आने वाले तीर्थयात्रियों को काफी सुविधा मिलेगी। जल संसाधन विभाग के अभियंता ने बताया कि इस पथ की लंबाई करीब 450 मीटर और चौड़ाई करीब 12 मीटर है। प्रत्येक दिन अधिकारियों की टीम निर्माण कार्य की जांच कर रहे हैं।विष्णुपद तक बन रहे नए अप्रोच पथ में आने वाले पर्यटकों व श्रद्धालुओं को उमदा पार्किंग की व्यवस्था मिलेगी। जिला पदाधिकारी द्वारा बताया गया कि यहां घुघड़ीटांड़ बाइपास के पास वाहनों की पार्किंग के लिए एक बड़ा एरिया को तैयार किया जा रहा है, इसके लिए स्थल चयन के लिए संबंधित विभाग को निर्देशित किया गया ।इसके मंदिर तक लोग आसानी से पहुंच सकेंगे तथा बुजुर्ग व लाचार श्रद्धालुओं को राहत मिलेगी।
 जल संसाधन विभाग गया के अभियंता ने बताया कि पथ के नीचे करीब 400 मीटर लंबा ड्रेनेज सिस्टम बनेगा, जो मनसरवा नाला काे जोड़ेगा। इसके अलावे चहारदीवारी का निर्माण भी किया जाएगा। इस नए अप्रोच पथ का सीता पथ की तरह सौंदर्यीकरण होगा। नए अप्रोच पथ पर दो नए घाट भी बनेंगे। इन सभी कार्यो के लिए  जल संसाधन विभाग के साथ आर सी डी, पुल निर्माण विभाग , तथा पर्यटन विभाग द्वारा समग्र रूप से कार्य योजना तैयार की गई है।  ज़िला पदाधिकारी ने कार्यपालक अभियंता जल संसाधन विभाग को निर्देश दिया कि गयाजी डैम में जमे गाद की सफाई कार्य प्रारंभ करें। हर हाल में बरसात के पानी आने के पूर्व सभी गाद की सफ़ाई पूर्ण हो जाए। इस अवसर पर अपर समाहर्ता राजस्व, अनुमण्डल पदाधिकारी सदर, कार्यपालक अभियंता जल संसाधन विभाग, अंचलाधिकारी नगर/ मानपुर सहित अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।
57
Share This Article
Leave a review

Leave a review

Your email address will not be published. Required fields are marked *