धर्म एवं कुल खानदान के मर्यादा के अनुसार ही विवाह करना चाहिए -संत शुभम जी महाराज

Live News 24x7
2 Min Read
अशोक
 मोतिहारी :  धर्म के अनुसार एवं अपने कुल के अनुसार ही विवाह करना चाहिए, अपने सुख को छोड़कर दूसरे को सुखी करना यही धर्म है ,श्री राम कथा के श्रवण मात्र से भक्तों को पापों से मुक्ति मिल जाती है ,श्री राम की भक्ति पाने के लिए उनकी कथा का श्रवण जरूर करें ,श्री राम कथा श्रवण से करोड़ों प्राणियों का जीवन बदल गया वह बुराइयों को छोड़कर अच्छाइयों में लग गए ! उक्त प्रवचन ब्रह्मलीन योगीराज श्री देवराहा बाबा गुरुकुल आश्रम में चल रहे हैं 53 वा सद्गुरु महायज्ञ एवं संगीतमय श्री राम कथा के सातवें दिवस अयोध्या धाम से पधारे संत शुभम जी महाराज ने उपस्थित भक्तों को रसपान कराया !उन्होंने श्री सीताराम विवाह की कई बधाइयां गीत गाया! भगवान के वन गमन जटायु का साहसिक त्याग आदि कथा को विस्तृत रूप से सुनाया !उन्होंने भजनों के माध्यम से बताया कि जीवन तो भैया एक रेल है अच्छे कर्मों का टिकट कटा लेना !आज के श्री राम नाम संकीर्तन के यजमान रोहिणी कुमारी एवं श्री राम कथा के सातवें दिवस का व्यास पूजन और माल्यार्पण ध्रुव गुप्ता सपत्नीक शोभा देवी ने सपरिवार पूजन किया वहीं ईस्ट चंपारण लाइंस क्लब के अध्यक्ष सुजीत सिंह सचिव सुधीर गुप्ता निलेश रंजन आदित्य सिंह ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर आज के कथा का विधिवत्त शुभारंभ किया! आश्रम अध्यक्ष विनय कुमार शर्मा ने बताया कि श्री रामनवमी 17 अप्रैल तक महायज्ञ चलेगा रामनवमी के अवसर पर प्रभु श्री राम का प्रकाट्य उत्सव महा भंडारा का आयोजन आश्रम में किया जाएगा! मंच संचालन यज्ञ संयोजक राम भजन ने किया मौके पर सचिव डॉक्टर जय गोविंद प्रसाद हरीकिशोर सिंह अशोक कुमार रंजीत कुमार पप्पू कुमार रंजन कुमार दिलीप केसरी अशोक कुमार सिंह आदि लोग उपस्थित रहे
56
Share This Article
Leave a review

Leave a review

Your email address will not be published. Required fields are marked *