विधार्थियों को कठिन विषय पर घबराना नहीं चाहिए

2 Min Read
 गया।शांति निकेतन एकेडमी गोविंदपुरम, रौना (चाकंद) के छात्रों ने प्रधानमंत्री द्वारा आयोजित कार्यक्रम परीक्षा पर चर्चा में भाग लिया है, प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी  ने छात्रों को परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन तथा तनाव मुक्त परीक्षा की तैयारी करने के लिए छात्रों को अनेक सुझाव दिये। प्रधानमंत्री जी ने यह भी बताया कि परीक्षा के लिए एक शब्द कसौटी है जिसका मतलब खुद को कसना तथा तैयार करना है। परीक्षा एक तरह से जिंदगी जिने के लिए एक उत्तम अवसर की तरह है। पीएम मोदी ने अपना अनुभव साझा कर कहा कि वे खुद सुबह उठते ही कठीन चीजों से मुकाबला करने निकलते है। पीएम मोदी ने कहा कि कुछ चीजे हमें अच्छी लगती है और कुछ बिल्कुल नहीं, इसका मतलब ये नहीं है कि कठिन चीजों को छोड़ देनी चाहिए। विद्यार्थियों को हर विषय को समान समय देना चाहिए तथा कठिन विषय से घबराना नहीं चाहिए इत्यादि अनेक बिन्दु पर छात्रों के सवाल का जवाब दिये जिससे छात्रों में उत्साह का माहौल है एवं सकारात्मक सोच तथा परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन करने में सहयोग मिलेगी। छात्रों ने प्रधानमंत्री को धन्यवाद कहा तथा उनके विचारों को ध्यान में रखते हुए परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन के लिए तैयारी में जुट गए हैं। शांति निकेतन एकेडमी के चेयरमैन हरिप्रपन्न ने  यशस्वी प्रधानमंत्री को इस कार्यक्रम के लिये आभार प्रकट किया है। और बोले कि प्रधानमंत्री द्वारा मूल मंत्र छात्रों को जीवन में संजीवनी की तरह काम करेगा।
11
Share This Article
Leave a review

Leave a review

Your email address will not be published. Required fields are marked *